Friday, 17 May 2013

यादों के भँवर- Whirling memories

आ !
आज  हम मिलकर रो लें, 
जो यादों के भँवर ने 
हमें एक दूसरे के इतना पास ला छोड़ा है । 

डूबते उतरते हुए, इस भँवर में,
कभी तो आ जाएगा हमें तैरना-
ताकि हम तय कर सकें सफ़र 
अपने वजूद से तेरे वजूद के बीच का ...

         *    *    *















याद है ?
जब एक पुल हुआ करता था 
हमारे वाजूदों को जोड़ता हुआ 
जिस पर बैठे रहते थे हम दोनों 
कभी जरा मेरी ओर 
तो कभी जरा तेरी ओर-
और उस पुल के नीचे से बह जाया करता था 
जाने कितना वक़्त 
शान्त निश्चल पानी की तरह ...

         *     *     *

फिर याद है ?
वक़्त की लहरों में एक बवंडर सा उठा था 
जिसने पुल के साथ -साथ 
ऊँचे आसमानों तक फैले 
हमारे इंद्रधनुषी ख्वाबों को भी 
चकनाचूर कर दिया  
और हम धम्म से आ गिरे थे 
यादों के भँवर में।

फिर घिरे हुए उस भँवर में 
जाने कब वक़्त ने 
हमें अपनी लहरों में बहाते हुए 
अपने-अपने वजूद पर लाकर छोड़ दिया ...

          *    *    *

वक़्त अब भी गुजरता था 
पर हम तट पे खड़े थे 
तटस्थ,
सिमटे हुए अपने वजूद में
और आँखे गड़ी थीं 
गुजरते हुए वक़्त के उस पार 
तेरे वजूद की ओर।

कई बार तैर कर पार करना चाहा  
वक़्त की इस दरिया को
पर यादों के वो भँवर-
साँसें उखड़ जाती थीं!
हम डूबने लगते थे! ...

और आज उसी भँवर ने जो ला छोड़ा है हमें 
एक दूसरे के कहीं आस- पास 
तो क्यों ना हम मिल कर रो लें 
की कभी तो आ जायेगा हमें तैरना
और तय कर सकेंगे सफ़र 
अपने वजूद से तेरे वजूद के बीच का  ... 
  




Let our self
Be drowned into tears
As whirls of memories
Brought us together…

Some day
We will learn to swim
Through these memories
To cross this river
Between our existence.

     *    *    *

Once
There was a bridge
Connecting our beings.
Sitting on which
Feeling like sometimes more me
And sometimes more you.
We used to fantasize
Life like a rainbow
While beneath that
A lot of time passed
Calmly like water…

   *    *     *

And then
A  storm of vicious misfortune
Broke that fascinating spell.
And we fall into
Vortex of memories
Which ferried us to
Banks of our own existence.

   *    *    *

Time was still passing
But we ware untouched by its flow..
Yearning  to mingle with your being
Across the vast river of time.

Many a times
I wanted to cross this river
But those vortex of memories
Swirling around our being
Started drowning me…

And now that
Whirling with memories
We came so close to each others being
Let our self
Be drowned into tears.

That same day
We will learn to swim
Through these memories
To cross this lapse
Between our existence...

9 comments:

  1. आपके ब्लॉग का परिचय दिया है यहाँ .
    हम हिंदी चिट्ठाकार हैं

    ReplyDelete
  2. मैडम ब्लाग को परिचय प्रदान करने के लिए धन्यवाद । पर वो reminding वाली बात समझ में नहीं आई ।

    ReplyDelete
  3. बढ़िया सार्थक प्रस्तुति ..

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति .. आपकी इस रचना के लिंक की प्रविष्टी सोमवार (01.07.2013) को ब्लॉग प्रसारण पर की जाएगी. कृपया पधारें .

    ReplyDelete
  5. आज बहुत दिनों बाद तुम्हारे ब्लॉग पर आई हूँ बहुत सशक्त और भावपूर्ण रचना है मेरे ब्लॉग पर भी तुम्हारा स्वागत है

    ReplyDelete
  6. आप सभी का सादर धन्यवाद!

    ReplyDelete

आपके विचार हमारा मार्गदर्शन व उत्साहवर्धन करते हैं कृपया हमें इमसे वंचित न करें ।

Images : courtsy google
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...